STUDY AT VISM

Dr. S.K.S Rathore an outstanding academician had established GSKS in memory of his great father Shri G.S Rathore to serve the society in education and social welfare.The Samiti had started the various institute under the aegis of VISM Group of studies to prepare the potential young generation of india to face the upcoming competitive world and to contribute to the intellectual pool of india and the world.

Admissions Open 2020

Chairman's Message

Dr. Sunil Kumar Singh Rathore
Chairman, VISM Group of Studies

The VISM Group of Studies is an integrated multi-disciplinary institute. It provides a wide and varied platform for the students with academic and extracurricular talent. We are committed to develop a student-centered environment to meet the intellectual, cultural, social, physical, and recreational needs of the students. The management consistently works towards providing value-added resources and infrastructure to impart excellent education using modern teaching techniques. We are confident that VISM Group of Studies will meet your aspirations. Let me welcome all students and academic associates to a new year of association. 'With Best Wishes'.

STUDENT LIFE

SPOTLIGHT

Courses

Course Offered

Our various colleges offer different courses. Which are recognised with various councils, departments, universities & Affiliated by boards and universities

View All Course
Training & Placement

Training & Placement

Our placement team arranges the special programs and training sessions to train the students to enhance their employability.

Read more
Facility

Facility

Career

Career Apply Online


Build your career with VISM Group of Studies.

Apply Online

News & Updates

08Dec

व्हीआईएसएम काॅलेज में दो दिवसीय नेशनल कांफ्रेस का हुआ समापन

आज दिनंाक 08/12/2019 को व्हीआईएसएम महाविद्यालय में रिसर्च मैथोडोलाॅजी एण्ड करन्ट रिसर्च ट्रेड इन नर्सिंग विषय पर चल रहीं नेशनल कांफ्रेस का समापन हुआ। समापन समारोह में मुख्य अतिथि जंयती चैरसिया रजिस्ट्रार म.प्र. नर्सेंस रजिस्ट्रेशन कौसिंल भोपाल उपस्थित थी। समारोह की अध्यक्षता डाॅ. विनोद कुमार गुप्ता, डायरेक्टर स्टेट हेल्थ सर्विसेस ने की एवं समारोह की गेस्ट आॅफ आनर डाॅ. एम.एस. विन्सी, बाॅम्वे हाॅस्पीटल एण्ड काॅलेज आॅफ नर्सिंग इंदौर थी। अपने उद्बोदन में मुख्य अतिथि ने कहा कि इस नेशनल कांफ्रेस में सम्मिलित हुए विद्वानो के प्रेजेन्टेशन से सभी प्रतिभागी लाभान्वित हुए है एवं इससे नर्सिंग प्रोफेशन को नया मार्गदर्शन मिलेगा। उन्होने कहा कि नर्सिंग क्षेत्र में रोजगार की अपार सभावना है एवं मेरी यह कोशिश है कि म.प्र. के नर्सिंग काॅलेज गुणवत्ता की शिक्षा दे ताकि देश भर में वे विशिष्ट स्थान ग्रहण करें। इसी को ध्यान में रखते हुए म.प्र. नर्सेंस रजिस्ट्रेशन कौसिंल ने प्रदेश के समस्त शैक्षणिक एवं गैर शैक्षणिक नर्सिंग कर्मचारियों के लिए एनयूआईडी की योजना प्रांरभ की है। कार्यक्रम की गेस्ट आॅफ आनर श्री मती एमएस विन्सी ने नर्सिंग क्षेत्र में कांफ्रेस आयोजित करने के लिए जय इंस्टीटयूट आॅफ नर्सिंग को बधाई दी एवं आशा व्यक्त की कि नर्सिंग के क्षेत्र में अग्रणी यह संस्थान आगे भी अपना लीडिग रोल निभाता रहेंगा। कार्यक्रम के अध्यक्ष डाॅ. गुप्ता ने सभी छात्र-छात्राओं से शासन द्वारा प्रदाय की जा रही विभिन्न जन उपयोगी योजनाओं के बारे में जानकारी रखने का आग्रह किया।  अपने धन्यवाद भाषण में संस्था के चेयरमैन डाॅ. सुनील राठौर ने जय इंस्टीटयूट के छात्र-छात्राओं द्वारा विश्वविद्यालय स्तर पर किये जा रहें प्रदर्शन की प्रंशसा करते हुए संस्थान के शैक्षणिक स्टाॅफ को बधाई दी। उन्होने मुख्य अतिथि को आश्वासन दिया की उनके नर्सिंग शिक्षा में गुणवत्ता लाने के अभियान में जय इंस्टीटयूट हमेंशा अग्रणी भूमिका निभाएगा। उन्होने यह भी बताया कि हाल में ही प्रांरभ हुआ पीएचडी नर्सिंग कोर्स ग्वालियर चम्बल संभाग के विधार्थियों को आकर्षित करेंगा क्योकि इस संस्थान मंे आधुनिक सुबिधाओं युक्त रिसर्च सेंटर एवं अनुभवी गाईड उपलब्ध है। उन्होने कांफ्रेस में सम्मिलित हुए प्रतिभागियो, आयोजको एवं समस्त कर्मचारियों को कांफ्रेस की सफलता पर बधाई दी। आज अंतिम दिन 10 वक्ताओं ने अपने शोध पत्र प्रस्तुत किये। जिसमें स्थानीय वक्ताओं के अतिरिक्त देश के विभिन्न प्रदेशो से पधारे वक्ताओं ने भागीदारी की। कार्यक्रम का अंतिम भाग विभिन्न प्रतिभागियों के सक्षिप्त प्रेजेन्टेशन से हुआ जिसमें जिज्ञासुओं ने कई प्रश्न पूछे। कांफ्रेस में श्रेष्ठ प्रतिभागियों में प्रथम स्थान स्वेता जोशी एसोशिऐट प्रोफेसर एवं रोशनी गौतम असि. प्रोफेसर बाॅम्वे हाॅस्पीटल एण्ड काॅलेज आॅफ नर्सिंग इंदौर, ने प्राप्त किया। जबकि तृतीय स्थान जय इंस्टीटयूट आॅफ नर्सिंग एण्ड रिसर्च की रविता यादव को प्रदान किया गया। आज के कार्यक्रम में संस्थान की चेयरपर्सन श्रीमती सरोज राठौर, निदेशक डाॅ. प्रज्ञा सिंह सहित महाविद्यालय के अधिकारी व कर्मचारी एवं समस्त छात्र-छात्राऐं मौजूद रहें मौजूद रहें।

07Dec

व्हीआईएसएम काॅलेज में नर्सिंग विषय पर प्रांरभ हुई दो दिवसीय नेशनल कान्फ्रंस

आज दिनांक 07/12/2019 को व्हीआईएसएम ग्रुप आॅफ स्ट्डीज़ के अन्तर्गत संचालित जय इंस्टीटयूट आॅफ नर्सिंग एण्ड रिसर्च में रिसर्च मैथोडोलाॅजी एण्ड करन्ट रिसर्च ट्रेड इन नर्सिंग विषय पर नेशनल कान्फ्रंेस का शुभांरभ हुआ। कार्यक्रम की शुरूआत दीप प्रज्जवलन एवं सरस्वती वंदना से की गई। कार्यक्रम में देश के विभिन्न शिक्षा संस्थानो से पधारे ख्याति प्राप्त विद्वानो ने अपने शोधो एवं विचारो को साझा किया। कान्फ्रंेस में लगभग 10 स्पीकर्स ने नर्सिंग विषय में किये जा रहें शोधो एवं उससे प्राप्त नतीजो पर प्रकाश डालते हुए अपने विचार व्यक्त किये। जिसमें मुख्यअतिथि के रूप में आई.जी. ग्वालियर एवं अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक म.प्र. पुलिस श्री राजा बावू सिंह सेंगर उपस्थित थे एवं कार्यक्रम की अध्यक्षता डाॅ. डी.के. दुबे डायरेक्टर डीआरडीओ ने की। गेस्ट आॅफ आॅनर के रूप में डाॅ. सरोज कोठारी, डीन ज्ीआरएमसी एवं डाॅ. ए.के. गुप्ता असि. डायरेक्टर डीआरडीओ उपस्थित रहें। कार्यक्रम के प्रारंभ में  कान्फ्रंेस की सोविनियर एवं वर्ष 2020 के वार्षिक कैलेडर का लोकार्पण हुआ। मुख्य अतिथि श्री राजा बावू ने अपने उद्बोदन में कहा कि नर्सिंग प्रोफेशन दुनिया के सबसे श्रेष्ठ प्रोफेशन में से एक है। महात्मा गांधी के 150वे जंयती के वर्ष में व्हीआईएसएम द्वारा नर्सिंग विषय पर  कान्फ्रंेस आयोजित करना हर्ष का विषय है क्योकि गंाधी जी ने भी 30 साल की उम्र में मानवता की सेवा के लिए नर्सिंग प्रशिक्षण प्राप्त किया था। नर्सिंग एक मानव सेवा का विषय है एवं इसमें रिचर्स की संभावनाए सदेव बनी रहेंगी। व्हीआईएसएम द्वारा नर्सिंग विधार्थीयों को सघन प्रशिक्षण एवं शिक्षा प्रदान कर समाज एवं देश की सेवा की जा रहीं है। आज भी नर्सिंग प्रोफेशन के डिमांड सप्लाई मंे काफी अन्तर देखने को मिलता है और इस क्षेत्र में रोजगार की अपार संभावनाए है। मुझे आशा है कि कान्फ्रंेस मंे सम्मिलित होने वाले प्रतिभागियों के साथ- साथ छात्र-छात्राओं को भी विषय पर वहुमुल्य जानकारी मिलेगीं। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहें डाॅ. डी.के. दुबे डायरेक्टर डीआरडीओ ने मंच से बोलते हुए कहा कि शिक्षा क्षेत्र में मिल रही जानकारी को ज्ञान में परिवर्तित होना चाहिए एवं ज्ञान को बुद्धिमत्ता में रूपांतरित करना चाहिए ताकि उससे समाज लाभान्वित हो सके। कार्यक्रम की गेस्ट आॅफ आॅनर डाॅ. सरोज कोठारी डीन ज्ीआरएमसी ने उपस्थित छात्र-छात्राओं को बताया कि नर्सिंग एक पवित्र प्रोफेशन है एवं इसे मानव सेवा मानकर सम्पादित करना चाहिए रोगियों पर दवाईयों से होने वाले किसी भी दुषप्रभाव पर तुरंत कार्यवाही करते हुए उसकी समुचित जानकारी संस्था को प्रेषित करना चाहिए ताकि ऐसी दवाओं के सम्बन्ध में एक रिपोर्ट तैयार की जा सके। संस्थान के चेयरमैन डाॅ. सुनील राठौर ने महाविद्यालय की स्थापना से लेकर अभी तक की शैक्षणिक यात्रा पर प्रकाश डाला उन्होने कहा कि व्हीआईएसएम का उद्देश्य मात्र शिक्षा देना नहीं है बल्कि उसकी गुणवत्ता पर फोकस करना है आज अन्य विषयों के साथ-साथ नर्सिंग विषय के छात्र भी सिविल सेवा तक अपनी सफलता अर्जित कर रहें है। इस महाविद्यालय से पासआउट हुए छात्र-छात्राऐं देश के कई संस्थानो एवं चिकित्सालयों में कार्य करते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाएं हुए है। प्रदेश में जितने भी नर्सिंग संस्थान है उसमें से लगभग आधे ग्वालियर चम्बल संभाग में स्थित है। इस महाविद्यालय के कई छात्र-छात्राओं ने प्रवीणता सूची में अपनी जगह बनाई है। साथ ही उन्होने इस बात को भी रेखाकिंत किया कि गरीबी रूपी रावण को शिक्षा ही मार सकती है।  कान्फ्रंेस में एम्स दिल्ली से पधारी रिंपल शर्मा ने नर्सिंग क्षेत्र में हो रहें नये नये शोधो एवं प्रयोगो पर प्रकाश डालते हुए अपना शोध पत्र पढा। नेशनल कान्फ्रंेस में नई दिल्ली, पंजाब, महाराष्ट्र, राजस्थान, मध्यप्रदेशव एवं उत्तरप्रदेश के व्याख्याता भाग ले रहें है जो दो दिन तक अपने शोधो से सम्बन्धित पत्र प्रस्तुत करेंगे। इसके अतिरिक्त देश के विभिन्न राज्यो से 400 से अधिक छात्र-छात्रा भी कान्फ्रंेस में सम्मिलत हुए। इस अवसर पर संस्थान की चेयरपर्सन श्रीमती सरोज राठौर, ग्रुप निदेशक डाॅ. प्रज्ञा सिंह नर्सिंग डायरेक्टर जयश्री अजित एवं नर्सिंग प्राचार्या के साथ-साथ समस्त अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित रहें।

12Nov

व्हीआईएसएम मे हुई अंतर्महाविद्यालयीन जिला स्तरीय वाॅलीबाल प्रतियोगिता के फाईनल में माधव काॅलेज विजयी

व्हीआईएसएम काॅलेज में दो दिवसीय अंतर्महाविद्यालयीन जिला स्तरीय वाॅलीबाल प्रतियोगिता का फाईनल मैच खेला गया । जिसमें माधव महाविद्यालय ने एसएलपी काॅलेज को कडे संघर्ष में परास्त कर प्रतियोगिता की ट्राफी अपने नाम की। कडे़ मुकाबले में दोनो टीमों ने शानदार खेल का प्रदर्शन करते हुए दर्शको का मनोरंजन किया। इसके पूर्व हुये सेमीफाईनल मुकाबलो में माधव महाविद्यालय ने एमएलबी काॅलेज एवं एसएलपी काॅलेज ने व्हीआईएसएम काॅलेज को हराकर फाईनल में प्रवेश किया। कार्यक्रम का शुभांरभ श्री अनिल बनवारिया एसडीएम झांसी रोड़ के मुख्य आतिथ्य एवं डाॅ. राजेन्द्र सिंह डायरेक्टर फिजिकल एज्यूकेशन जेयू की अध्यक्षता मंे सम्पन्न हुआ। प्रतियोगिता के अंत में मुख्य अतिथि ने विजेता एवं उपविजेता टीम को ट्राफी, मैड्ल्स एवं प्रमाणपत्र प्रदान किये। इस अवसर पर मुख्य अतिथि ने प्रतियोगिता के शानदार आयोजन पर व्हीआईएसएम महाविद्यालय को बधाई देते हुए विजेता एवं उपविजेता टीमों की प्रंशसा की। इसके उपरान्त डाॅ. राजेन्द्र सिंह ने दोनो टीमों के खेल की प्रंशसा करते हुए कहा कि खिलाडियों ने न केवल पावर का इस्तेमाल किया बल्कि अपने तकनीक एवं मांईन्ड गेम से मैच को रोमांचक बनाया उन्होने कहा कि काफी वर्षो पश्चात् एक रोचक एवं संघर्ष पूर्ण मुकाबला देखने को मिला। यह खिलाड़ी आगे जाकर प्रदेश एवं देश में शहर का नाम रोशन करेंगे। इस अवसर पर संस्थान के चेयरमैन श्री सुनील राठौर ने अतिथियों का स्वागत करते हुए महाविद्यालय की खेल गतिविधियों की जानकारी दी। इस अवसर पर संस्थान के समस्त स्टाॅफ एवं छात्र-छात्राओं ने उपस्थित रहकर दोनो टीमों का उत्साह बढ़ाया। 

Students Speak!

Accreditation & Registrations / Affiliations